बुद्ध का जन्म कैसे हुआ था ? क्या है बुद्ध उर्फ सिद्धार्थ की पैदाईस की हकीकत - The Allah

Thursday, August 12, 2021

बुद्ध का जन्म कैसे हुआ था ? क्या है बुद्ध उर्फ सिद्धार्थ की पैदाईस की हकीकत

इंसान जब शैतान के साये में आ जाता है तो कुफ्र में चला जाता है और काफिराना हरकते करने लगता है। उसकी इन्ही हरकतों से अल्लाह उसपर अज़ाब लाता है। बुद्ध के मामले में भी ऐसा ही हुआ था।

कौन था बुद्ध
असल मे बुद्ध जैसा कोई नही था, एक शख्स जिसका नाम सिद्धार्थ था उसने खुद ही खुद का नाम बदलकर बुद्ध में तब्दील कर दिया था।

सिद्धार्थ बचपन से ही मूर्ख था, इतना मूर्ख की उसका घोड़ागाड़ी चलाने वाला गुलाम चन्ना उसके सामने अक्लमंद साबित होता था।

लेकिन धीरे धीरे सिद्धार्थ को समझ आती गयी कि वो आम इंसान नही है बल्कि शैतान का बीज है।

शैतान का बन्दा अपने मुकाम पर
 शैतान को हमेशा से ही अल्लाह के बंदों पर राज करने और उन्हें अपना नुमाइंदा बनाने अपने इशारे पर नचाने की सनक लगी हुई है।

सिद्धार्थ ने भी वही किया इसने सबसे पहले हिन्दू धर्म की किताबों से एक नाम चुराया और खुद को उसका अवतार घोषित किया। आपको बता दें कि हिंदुओं में भगवान का एक नाम विष्णु है और उस विष्णु के कई वतार है जिनमे से एक का नाम बुद्ध था।

लोगो ने इसे बुद्ध समझकर उसकी बातें मन्ना शुरू कर दिया। और यही से इस काफिर ने भी कुफ्र फैलाना शुरू किया।

इसका मानना था कि दुनिया किसी ने नही बनाई, इस अन्धविश्वासी की माने तो दुनिया अपने आप जादू से बन गई 😂

इस काफिर ने इस जहान में सबसे ज्यादा दीन को नुकसान पहुचाया है। अब सवाल ये है कि अनेको काफिर है इस दुनिया मे लेकिन अन्धविश्वास फैलाने में खुद को सबसे ताकतवर घोषित करने में ये काफिर बुद्ध ही सफल क्यों हुआ।

शैतान का बच्चा बुद्ध
चूंकि बुद्ध आम इंसान नही बल्कि शैतान का औलाद था। इसकी अम्मी महामाया जिसके शौहर का नाम सुद्दोधन था। इन दोनों के कोई औलाद नही हुई थी। एक रात महामाया के सपने में शैतान हाथी का भेष बनाकर आया, और महामाया के साथ जोर आजमाइश करते हुए खूब जिना किया, और उसकी शैतानी ताकत के चलते दूसरे दिन ही महामाया ने एक बच्चे को जन्म दे दिया।

अब आप समझ ही गए होंगे सिद्धार्थ इतना ताकतवर क्यों था।

सिद्धार्थ का असली बाप यानी शैतानो का शैतान हाथी की शक्ल में आया था इसलिए सिद्धार्थ ने अपने गिरोह में हाथी को काफी ऊंचा ओहदा दिया।

Share to spread

Comment here